Valentine Day क्यों मनाया जाता है ? इस दिन की History क्या है ?

क्या आप जानते है वैलेंटाइन डे क्या है और इसे क्यों मनाया जाता है,  तोह आपके लिए यह सही पोस्ट है।  

14 February -Valentine Day

वैलेंटाइन एक व्यक्ति का नाम था  जिसके नाम पर वैलेंटाइन डे मनाया जाता है। Valentine रोम का रहने वाला था  जो रोम के एक चर्च में पादरी था और उस समय रोम का राजा Claudius था जो एक अत्याचारी और क्रूर राजा था। Claudius का मानना था की शादी करना उनके  महान युरोपियन की परंपरा नहीं है और स्री को एक उच्च दर्जे का स्थान नहीं दिया जा सकता है।  इसी Claudius के राज्य में वैलेंटाइन हो गए जो गावँ गावँ घूमकर लोगो की शादि करवाते थे और कहते थे शादी करो और एक पत्नी के साथ रहो।
 वैलेंटाइन ने कुछ भारतीय साहित्य को पढ़ा था और यहाँ के रीती रिवाज के बारे में अध्ययन किया था ।  Valentine कहते थे की एक पत्नी के साथ रहना, एक स्त्री के साथ रहना कितना सुखद होता है, उसमे complications कम होते है , उसमें बीमारियाँ काम होती है, sexual बीमारियां नहीं होती, और वैलेंटाइन को भारतीय साहित्य मिला कहा से,  ये मिला उसको इस तरह से की उस समय भारत का बहुत व्यापार चलता था यूरोप के लोगो के साथ via साउथ अफ्रीका। इसी समय किसी तरह से उसको कुछ भारतीय साहित्य मिल गए और उसका अध्ययन किया तोह पता चला भारत की परिवार वयवस्था तोह कुछ इस तरह से है। तोह उन्होंने भरपूर प्रचार किया पुरे रोम में घूम घूम कर की शादी करो और शादी के बाद रहो। 

तोह Valentine  मशहूर हो गया रोम में लोगो की शादी कराने के लिए , वो गावं गावं घूमकर वयाख्यान देते थे की शादी करने के क्या फायदे और और एक स्त्री के साथ ही रहने और सिर्फ उसी से शारीरिक संबंध बनाने के क्या क्या फायदे है।  लेकिन उस समय का राजा  Claudius को ये सब पसंद नहीं था और कहता था की ये तोह उनके महान यूरोपियन सभ्यता के ख़िलाप है जहाँ शादी नहीं की जाती है।  

जब बहुत गुस्सा आया Claudius को तोह उसने वैलेंटाइन को फांसी में चढ़ा देने की आदेश  दे दिया। उस समय जो राजा होता था जो उसने कह दिया वही कानून होता था , और कोई भी आदेश दे सकता था।  Claudius ने जिसकी शादी वैलेंटाइन ने करवाया था उन सबको बुलाकर उसके बिच में एक खुले मैदान में  सन. 14 Feb, 498 को Valentine को फँसी पे चढ़ा दिया गया।  

अब हुवा क्या की जिनलोगों की शादियां करायी थी वैलेंटाइन ने वो सब दुःखी हो गए और इक्कठे हो गये। तब से Valentine के याद में वहाँ के लोग वैलेंटाइन डे मानते है।  ये है वैलेंटाइन डे की History . 

अब आप खुद सोचिये और विचार कीजिये की क्या हमें वैलेंटाइन डे मानाने की जरुरत है? क्या हमें बिना जाने समझे अन्धो की तरह किसी को पूछना चाहिए की Would you be my valentine ? तनिक विचार कीजियेगा।  


जय हिन्द। 

   







Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment