MOTIVATIONAL POEMS IN HINDI BY – Harivansh Rai Bachchan




कोशिश करने वालों की

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।
नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारों पर, बार बार फिसलती है।
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है।
आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।
डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है।
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में।
मुट्ठी उसकी खाली हर एक बार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।
असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो।
जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम।
कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।
                                  –हरिवंशराय बच्चन





                                          

 अग्निपथ


वृक्ष हों भले खड़े,
हों बड़े, हों घने,
एक पत्र छाँह भी
मांग मत! मांग मत! मांग मत!
अग्निपथ! अग्निपथ! अग्निपथ!
तू न थकेगा कभी, 
तू न थमेगा कभी, 
तू न मुड़ेगा कभी, 
कर शपथ! कर शपथ! कर शपथ! 
अग्निपथ! अग्निपथ! अग्निपथ! 
यह महान दृश्य है, 
देख रहा मनुष्य है, 
अश्रु, स्वेद, रक्त से 
लथ-पथ, लथ-पथ, लथ-पथ, 
अग्निपथ! अग्निपथ! अग्निपथ! 

                     -–हरिवंशराय बच्चन





Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment