शिक्षक दिवस - Happy Teacher's Day




गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णु र्गुरुर्देवो महेश्वरःगुरु साक्षात परब्रह्मा तस्मै श्रीगुरवे नमः

Meaning: Guru is verily the representative of Brahma, Vishnu and Siva. He creates, sustains knowledge and destroys the weeds of ignorance. I salute such a Guru.



A good teacher is like a candle – it consumes itself to light the way for others.

Teaching is a very noble profession that shapes the character, caliber, and future of an individual. If the people remember me as a good teacher, that will be the biggest honor for me. – A. P. J. Abdul Kalam


भारत में प्राचीन काल से ही गुरु - शिष्य की परंपरा रही है।  एक गुरु का हमारे जीवन में बहुत बड़ा योगदान होता है, जो हमें शिक्षा देते है और शिखर तक पहुंचने में मार्गदर्शन देते है।  शिक्षक दिवस हमारे  सभी गुरुवों और शिक्षक को समर्पित है।

भारत में 5 सितम्बर को पूर्व राष्ट्पति  डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म दिवसपर  हर साल Teachers Day के रूप में मनाया जाता है। देश में पहली बार 5 सितम्बर 1962 को शिक्षक दिवस मनाया गया था।  लेकिन पूरी दुनिया में 5 October को teachers day मनाया जाता है जो 1994 से मनाया जा रहा है।



शिक्षा के द्वारा ही मानव मस्तिष्क का सदुपयोग किया जा सकता है. अत: विश्व को एक ही इकाई मानकर शिक्षा का प्रबंधन करना चाहिए.
 --- डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन



कौन थे डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन ? 


                                                                                                       Image source : https://bit.ly/2wLWTmt

डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन भारत के पहले Vice President और दूसरे President थे। उनका जन्म 5 सितम्बर 1888 को Tamil Nadu, India में हुवा था।  उन्होंने अपने जीवन के 40 वर्ष शिक्षक के रूप में काम किया। डॉक्टर सर्वपल्ली  अपने छात्रों के बीच बहुत famous और सबके favourite भी थे।  इनका मानना था की हमें कही से भी कुछ सीखने को मिले उसे ग्रहण कर लेना चाहिए। 1954 में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।





5 सितम्बर को शिक्षक दिवस क्यों मनाते है ?

डॉक्टर सर्वपल्ली के भारत राष्ट्पति बनने के बाद एक उनके दोस्त और छात्रों ने उनका बर्थडे celebrate करना चाहते थे।  जब उनसे अनुमति माँगा तोह उन्होंने मना कर दिया और बोले मेरा जन्म दिवस separate मनाने के बजाय  आज के दिन अगर  teachers day के रूप में मनाया जाएगा तोह मुझे गर्व होगा। इसी के बाद पूरे देश में 5 सितम्बर को teachers day के रूप में मनाया जाता है जिसे  पहली बार 1962 को मनाया गया था।




हमारा मार्गदर्शक बनने, हमें प्रेरित करने और हमें वो बनाने के लिए जो कि हम आज हैं, हे शिक्षक! आपका धन्यवाद।



Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment