खट्टी मीठी यादें

Hindi Poems












दिल के आँगन में खेलते है कई रिश्ते ,
 अपने तो होते ही है पराये भी आ बसते है इसमें ,
 ये दिल मेरा नादान , 
सबको दे जगह है जाता आँगन में ,
जब शाम के किसी मोड़ में , 
बंद होते है ये खेल ,
पढता हूँ .... खुद के लिखे वो कुछ लफ्ज ,
याद आते है वो खेल ,
कुछ खट्टी ,कुछ मीठी यादें....
हँसा कर रुला जाती है पलकों को ,
फिर भूली बिखरी चीजों को ,
लिख जाता हूँ समेट कर ,
ना जाने मेरा यह खेल कब तक चलेगा ,
शायद जब तक ये साँस चलेगा ....!!!

                                 - Pranjal
Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment